गौ निरुपमा है

img

गोपूजन पद्धति

जिस ब्रह्मविद्या द्वारा मनुष्य परम सुख को प्राप्त करता है, उसकी सूर्य से उपमा दी जा सकती है, उसी प्रकार द्युलोक की समुद्र से तथा विस्तीर्ण पृथ्वी की इन्द्र से उपमा दी जा सकती है, किंतु प्राणिमात्र के अनन्त उपकारों को अकेली सम्पन्न करने वाली गौ की किसी से उपमा नहीं दी जा सकती, गौ निरुपमा है, वास्तव में गौ के समान उपकारी मनुष्य के लिये दूसरा कोई भी नहीं है।

image-1 image-2 image-3

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER